Himachal Pradesh Parvat Dhara Yojana 2022

Himachal Pradesh Parvat Dhara Yojana 2022: राज्य में जल स्रोतों का संग्रहण, प्रबंधन, संरक्षण करने हेतु हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा हिमाचल प्रदेश पर्वत धारा योजना को आरम्भ किया गया है। अभी इस योजना को हिमाचल प्रदेश के सभी 10 मंडलों में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में  शुरू किया गया है इसे अभी प्रदेश के लाहौल और स्पीति मंडलों में लागू नहीं किया गया है, क्योकि यह प्रदेश एक पहाड़ी इलाका है। इस सम्बन्ध में विशेषज्ञों का मानना है कि जिस प्रकार से जल की बर्बादी हो रही है उस स्थिति को देखते हुए अनुमान लगाया जा सकता है कि आने वाले समय में भूजल स्तर बहुत निचले स्तर पर जा सकता है। ऐसी हालत होने पर लोगो को जल की कमी जैसी समस्याओ का सामना करना पड़ेगा। इसी बात को ध्यान में रखते हुए हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जी के द्वारा Himachal Pradesh Parvat Dhara Yojana को आरम्भ किया गया है जिससे जल स्रोतों व भू-जल स्थिति का विकास किया जा सकेगा।

Himachal Pradesh Parvat Dhara Yojana 2022

Himachal Pradesh Parvat Dhara Yojana 2022

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी के द्वारा जल स्रोतों का संवर्धन करके भूजल स्तर में वृद्धि करने हेतु Himachal Pradesh Parvat Dhara Yojana को आरम्भ किया गया है, जिसके जरिए से जल स्रोत के निरंतर कम हो रहे जीर्णोद्धार और ढलानदार खेतों में सिंचाई हेतु छोटे-बड़े जल संचायन ढांचों का निर्माण किया जा सके इसके माध्यम से वनो में जल की आपूर्ति कराई जा सकेगी।

अभी इस योजना को केवल 10 वन मंडलों में पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर आरंभ किया गया है इसके जरिये से 600 चेक डैम व चेक वॉल, 110 छोटे छोटे तालाब, 12000 कन्टूर ट्रैंच आदि को निर्माणित करने का काम किया जाएगा। इसके अतिरिक्त हिमाचल प्रदेश पर्वत धारा योजना 2022 के जरिए से पौधरोपण भी किया जाएगा, सरकार द्वारा इस योजना के लिए 2 करोड़ 76 लाख रुपए के बजट को निर्धारित किया गया है।

जल शक्ति विभाग इस योजना का नोडल विभाग है इसके साथ ही इस योजना के क्रियान्वयन में वन विभाग द्वारा भी सहयोग प्रदान किया जाएगा। हिमाचल प्रदेश का करीब दो तिहाई भूभाग वन्य क्षेत्र है इसके विपरीत 27% भूभाग हरित आवरण से कैद है इसी वजह से इस योजना के क्रियान्वयन में वन विभाग द्वारा अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई जाएगी।

Overview of

Himachal Pradesh Parvat Dhara Yojana 2022

योजना का नाम हिमाचल प्रदेश पर्वत धारा योजना
आरम्भ की गई मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी के द्वारा
वर्ष 2022
लाभार्थी राज्य के लोग
आवेदन की प्रक्रिया ऑनलाइन
उद्देश्य राज्य के वन क्षेत्र में जल स्तर को बढ़ाना
लाभ वन क्षेत्रों में सिंचाई के लिए पर्याप्त मात्रा में जल उपलब्ध करवाना
श्रेणी हिमाचल प्रदेश सरकारी योजनाएं
आधिकारिक वेबसाइट http://himachalpr.gov.in/

Himachal Pradesh Parvat Dhara Yojana 2022 उद्देश्य 

हिमाचल प्रदेश पर्वत धारा योजना 2022 का मुख्य उद्देश्य राज्य के भूजल स्तर में सुधार और जल का संरक्षण करना है। इस योजना के अंतर्गत हिमाचल प्रदेश में जल संग्रहण के निर्माण का कार्य ढलानदार क्षेत्रों में सिंचाई के लिए किया जाएगा, राज्य के जल स्तर में इन संग्रहण व तालाबों के निर्माण के कार्य से सुधार हो सकेगा। फिलहाल इस योजना को हिमाचल प्रदेश के 10 जिलों में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू किया गया है, यह जिले बिलासपुर, हमीरपुर, जोगिंद्रनगर, नाचन, पार्वती, नूरपुर, राजगढ़, नालागढ़, योग, इलहोजी आदि है।

इन जिलों में Himachal Pradesh Parvat Dhara Yojana के जरिए से छोटे-बड़े तालाब, चेक डैम व चेक वाल, कंटूर ट्रैन आदि को निर्माणित किया जाएगा, क्योकि वन क्षेत्र हिमाचल प्रदेश में अधिक है और अधिक वन वाले क्षेत्रों में पानी की अत्यंत ज़रूरत होती है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए अब HP Parvat Dhara Yojana के जरिये से जल की कमी को वन क्षेत्रों में जल स्रोतों का संवर्धन करके खत्म किया जाएगा।

इस योजना के अंतर्गत किन चीजों का निर्माण कार्य शामिल होगा

राज्य सरकार Himachal Pradesh Parvat Dhara Yojana 2022 के अंतर्गत प्रदेश में विभिन्न जल संचायन, जैसे:- जलाशयों एवं जल संग्राहकों के निर्माण का कार्य करेंगी, जिससे राज्य में भू-जल के घटते हुए स्तर को रोकने में सहायता प्राप्त होगी एवं साथ ही साथ ग्रीष्म काल में तालाबों एवं नदियों के सूखने पर किसानों को सिंचाई में होने वाली कठिनाइयों से भी छुटकारा मिल सकेगा। आपको बता दें कि राज्य सरकार द्वारा इस योजना को हिमाचल प्रदेश के 10 मंडलों में पायलट योजना के रूप में आरंभ किया जाना है, जिसके अंतर्गत 110 छोटे-बड़े तलाब, विभिन्न प्रकार के 600 चेक डैम एवं चेक वॉल, 12 हजार कंटूर टैंकों का निर्माण किया जायेगा। इसके साथ ही प्रदेश में पौधारोपण का कार्य भी किया जायेगा, जिससे विभिन्न जल स्त्रोतों के निर्माण से पर्वत की जलधारा बनी रहेगी एवं भू-जल के स्तर में वृद्धि भी हो सकेगी।

Himachal Pradesh Parvat Dhara Yojana 2022 हेतु बजट 

हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा Himachal Pradesh Parvat Dhara Yojana को आरंभ करने की घोषणा की गयी है, जिसके माध्यम से राज्य के वन क्षेत्रों में जल संरक्षण हेतु विभिन्न कार्य किये जायेंगे। इन क्षेत्रों में जल की उपलब्धता एवं निरंतरता को स्थिर करने हेतु जल स्रोतों का आवर्धन किया जायेगा, जिससे भूजल स्तर में वृद्धि हो सकेगी। इस योजना के सुचारु निष्पादन हेतु राज्य सरकार द्वारा 2.76 करोड़ रुपये का बजट अवधारित किया गया है, जिसका उपयोग करते हुए राज्य के 10 मंडलों में 110 छोटे-बड़े तालाब, 600 विभिन्न प्रकार के चेक डैम तथा चैक वॉल, 12 हजार कंटूर टैंक का निर्माण एवं पौधारोपण का कार्य किया जायेगा। इसके साथ ही बजट के धनराशि का प्रयोग राज्य के वन क्षेत्रों में सिंचाई की सुविधा उपलब्ध करवाने में भी की जाएगी, जिससे स्थानीय क्षेत्र के किसानों को सिंचाई हेतु जल प्राप्त करने में होने वाली परेशानियों से छुटकारा मिल सकेगा।

हिमाचल प्रदेश पर्वत धारा योजना संबंधित मुख्य तथ्य 

योजना का बजट 2.76 करोड़ रुपये
शामिल किये गए वन मंडलों की संख्या 10 वन मंडल
शामिल वन मंडलों के नाम बिलासपुर, हमीरपुर, जोगिंद्रनगर, नाचन पार्वती, नूरपुर, राजगढ़, नालागढ़, योग एवं इलहोजी
जिले जो इस योजना में शामिल नहीं है लाहुल, स्पीति एवं किन्नौर
योजना के अंतर्गत किस का निर्माण किया जाएगा 110 छोटे-बड़े तालाब, 600 चेक डैम एवं चैक वाल, 12000 कंटूर टैंक एवं पौधरोपण
फॉरेस्ट कवरेज 27 प्रतिशत

हिमाचल प्रदेश पर्वत धारा योजना के अंतर्गत शामिल वन मंडल

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जी के द्वारा प्रदेश के लाहौल और स्पीति मंडलों को छोड़कर बाकि सभी 10 मंडलों में हिमाचल प्रदेश पर्वत धारा योजना को आरम्भ किया गया है, यह मंडल इस प्रकार है:-

  • ठियोग
  • नूरपुर
  • जोगिंद्रनगर
  • डलहौज़ी
  • नाचन
  • राजगढ़
  • नालागढ़
  • बिलासपुर
  • हमीरपुर
  • पार्वती

हिमाचल प्रदेश पर्वत धारा योजना 2022 की विशेषताएं

  • हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी के द्वारा राज्य में Himachal Pradesh Parvat Dhara Yojana 2022 को आरम्भ करने की घोषणा की गई थी।
  • इस योजना को हिमाचल प्रदेश के लाहौल और स्पीति जिलों को छोड़कर बाकि सभी 10 जिलों में पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर शुरू किया गया है।
  • इसके अतिरिक्त प्रदेश का 27% भूभाग हरित आवरण से कैद है तथा इसके दो तिहाई भूभाग वन स्थित है। राज्य सरकार द्वारा 2 करोड़ 76 लाख रुपए का बजट इस योजना के संचालन के लिए निर्धारित किया गया है।
  • इसके अलावा राज्य सरकार द्वारा आरम्भ हिमाचल प्रदेश पर्वत धारा योजना 2022 का नोडल विभाग जल शक्ति विभाग होगा, तथा वन विभाग द्वारा भी इस योजना के क्रियान्वयन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई जाएगी।
  • हिमाचल प्रदेश के जल स्रोतों का संग्रहण, प्रबंधन, संरक्षण आदि इस योजना के अंतर्गत किया जाएगा, और राज्य सरकार द्वारा राज्य में पौधारोपण को भी उपलब्ध करवाया जाएगा।

HP Parvat Dhara Yojana 2022 के लाभ

  • बिलासपुर, हमीरपुर, जोगिंद्रनगर, नाचन, पार्वती, नूरपुर, राजगढ़, नालागढ़, योग, इलहोजी वन मंडलों को राज्य के मुख्यमंत्री जी के द्वारा आरम्भ हिमाचल प्रदेश पर्वत धारा योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा।
  • 110 छोटे छोटे तालाब, विभिन्न प्रकार के 600 चेक डैम व चेक वॉल और 12000 कन्टूर ट्रैंच आदि को इस योजना के जरिए से निर्माणित करने का कार्य किया जाएगा।
  • हिमाचल प्रदेश राज्य में HP Parvat Dhara Yojana के जरिए से जल संरक्षण के कार्य को बढ़ावा दिया जाएगा।
  • इस योजना के माध्यम से जल और मिट्टी दोनों को संरक्षित किया जाएगा, जिसके जरिए से हिमाचल प्रदेश में लंबे समय तक जल की आपूर्ति की जा सकेगी।
  • इसके माध्यम से राज्य में निरंतर कम हो रहे जल स्रोतों के जीर्णोद्धारढलानदार खेतों में सिंचाई सुविधा को उपलब्ध करवाने के लिए छोटे और बड़े जल संचायन ढांचों को निर्माणित करने का काम किया जाएगा, इसके पश्चात उनका ख्याल भी रखा जाएगा।

हिमाचल प्रदेश पर्वत धारा योजना में जल स्तर को बढ़ाने के लिए प्लान

राज्य सरकार इस योजना के तहत छोटे-छोटे तालाब और चैक डैम व चेक वॉल का निर्माण करकर गिरे हुए जल स्तर को ऊपर लाने का प्रयास करेगी। इन तरीको से गिरते भू-जल स्तर को रोकने में मदद मिलने के साथ-साथ मुद्रा एवं जल संसाधनों को बेहतर उपयोग में मदद मिलेगी और पहाड़ी इलाको में खेती में सिंचाई के लिए पर्याप्त मात्रा में जल मिल सकेगा।

Leave a Comment